अग्निपथ योजना समाज के भीतर सिविल डिफ़ेंस तैयार करने के लिए है।

ढाई मोर्चे में आधा मोर्चा बिना हिंदुओं के सैन्यकरण किए नहीं जीता जा सकता। इसके लिए सैनिक प्रशिक्षण अनिवार्य है। राष्ट्रभक्ति की ट्रेनिंग अनिवार्य है।
वैसे यह कोई नयी योजना तो नहीं है। हाँ, इसे आप पेड NCC कह सकते हैं। NCC में जो काम मुक्त में कराए जाते थे, अब उसके पैसे और डिग्री मिलेंगे। संभवतः 21-22 वर्ष की उम्र में लोअर मिडिल क्लास के बच्चे के हाथ में 10-12 लाख रुपया हो और उसके जीवन में अनुशासन हो, तो इससे अच्छा कांबिनेशन भला क्या हो सकता है।
अब आलोचकों ने इसकी अलग अलग प्रकार से आलोचना शुरू कर दी है, उन्होंने भी जो हर महीने यह लिखा करते थे की कास हमारे देश में भी इज़राइल जैसी व्यवस्था होती, तो ऐसे आलोचक तो गोबरैला प्रवृत्ति के होते हैं। हर समाधान में समस्या, हर इलाज में बीमारी, हर व्यवस्था में कमी खोज लेते हैं। लेकिन कुछ लोगों की चिन्ताएँ वास्तविक हैं। उन अलग अलग बातों पर विस्तार से चर्चा आवश्यक है।
इसमें सबसे पहले वह लोग हैं जो कहते हैं की कौन सी नौकरी है जिसमें 17 साल की उम्र में जान माल का ख़तरा है, जबकि वेतन केवल 40,000 है।
ख़तरा तो हर नौकरी में है। लाइनमैन हाई टेंशन बिजली की तार पर हर रोज़ देश में झुलस कर मरते हैं, न कोई सुविधा ना ही सम्मान, 6000 में नौकरी को तैयार हैं। अस्पताल की ICU में कूड़ा कचरा उठाने वाला सफ़ाई कर्मी को भी परिवार सहित प्राण का भय है पर वह करने को तैयार है। अतः इस तरह के बहाने बेकार हैं।
उससे महत्वपूर्ण बात यह है की युद्ध की परिस्थिति आने पर सेना के वो जवान जो अनुभवी हैं वह तैयार करते हैं। नए नए रंगरूट नहीं भेज दिए जाते।
इसके आगे लोगों का कहना है की भारत सरकार इनको पर्मानेंट नौकरी नहीं दे रही है। पेंशन भी नहीं है।
पहली बात तो यह है की यह अनिवार्य ट्रेनिंग नहीं है, जिसे इच्छा हो जाए, न इच्छा हो न जाय। पर्मानेंट नौकरी तो मिल ही रही है पर बेस्ट 25% को, न की सबको। इससे अच्छे अनुशासन और सीख के लिए प्रतिस्पर्धा भी बढ़ेगी। उससे आगे की बात यह है की ये योजना नौकरी देने की योजना नहीं है। यह योजना समाज के भीतर सिविल डिफ़ेंस तैयार करने के लिए है। योजना का मुख्य उद्देश्य ही लोगों को सैनिक अभ्यास कराकर समाज में छोड़ना है न की उनको लेकर रखना है क्यूँकि ये ढाई में से आधे मोर्चे के लिए तैयार किए जा रहे हैं, बाक़ी दो मोर्चा सम्भालने के लिए पर्मानेंट सिस्टम है।
अब लोग परेशान हैं की ये लड़के जो बंदूक़ चलाना सीखकर समाज में आएँगे वह आगे क्या करेंगे? कहीं समाज में समस्या न खड़ी कर दें।
अव्वल तो समाज में अपने अनुशासन से यह व्यवस्था ही उत्पन्न करेंगे पर यदि अव्यवस्था के भय से आप अपने पक्ष में सिविल डिफ़ेंस तैयार ही नहीं करेंगे तो आपके पक्ष में लड़ेगा कौन?
स्पष्ट कहें तो वैसे ये गुंडा निकलेंगे नहीं, पर निकलें भी तो अपने अस्तित्व के लिए इन्हें सहर्ष पाल लीजिए।

आगे शंका है की इसमें मुसलमान भर जाएँगे, हिंदू नहीं जाएँगे।
यदि ऐसे मौक़े पर भी हिंदू नहीं जाएँगे और मुसलमान घुस गए तो इसका स्पष्ट अर्थ है की हिंदुओं ने ठान रखा है की वह अपने अस्तित्व की रक्षा के लिए एक के बाद एक मिले किसी भी मौक़े को भुनाना नहीं चाहते। वह सरकार के भरोसे भी अपनी रक्षा करना चाहते हैं तो अपने क़िमत पर नहीं। हिंदुओं को रक्षा मुसलमान और ईसाई तो करेंगे नहीं और रोबोट से तुम्हारी रक्षा होनी नहीं है। इसलिए जाना तो तुम्हें पड़ेगा ही और नहीं जाना चाहते थे तुम्हारा अस्तित्व मिटना सौ प्रतिशत तय है तो अच्छा है जल्दी मिटो।
इसी विचार के लोग कह रहे हैं की मुसलमान बंदूक़ उठा लेंगे।
मुसलमान अपनी लड़ाई बंदूक़ से प्रायः नहीं करता। उसका हथियार है भीड़ और टेढ़ी मेढ़ी बंद बदबूदार गलियाँ। वह आज भी पत्थर और गुलेल से तुमसे लड़ रहा है और औक़ात दिखा रहा है। बंदूक़ से लड़ता तो कब का मारा जाता। जहां बंदूक़ उठाता है दो दिन में मारा जाता है।
और आगे सुनिए कांग्रेस के सेक्यूलर सरकार के दौरान भी सेना में इनको नहीं लिया गया तो अब तो भूल ही जाओ।
अगला प्रश्न आ रहा है की इससे सेना का कल्चर बिगड़ जाएगा।
सेना कल्चर आज तक NCC से नहीं बिगड़ा तो 4 साल के लगातार ट्रेनिंग से कैसे बिगड़ जाएगा??
और यह तो एक पेड ट्रेनिंग है। जिसको सेना में जाना है वह अच्छा से अच्छा कल्चर दिखाए और ट्रेनिंग ले, उसके बाद पर्मानेंट पोस्ट पर जाओ।क़ल्चर तो तब ख़राब होगा जब सबको ढोने की मज़बूरी हो। यहाँ तो टिकेगा वहीं जो कल्चर्ड होगा, वरना वापस जाना होगा।
हम बिना क़ीमत चुकाए सिविल डिफ़ेंस तैयार नहीं कर सकते थे, पर सरकार ने खुद सरकारी क़ीमत से सिविल डिफ़ेंस तैयार करने की योजना बनाई है, जो सीधे सीधे हिंदुत्व के पुरोधा वीर सावरकरजी के विचारों का ज़मीन पर अवतरण है।
कमी हर योजना में हो सकती है, समय के साथ ठीक हो जाती है। जो गोबरैला प्रवृत्ति का सदैव नकारात्मक है, उसको छोड दीजिए, बाक़ी लोग बेवजह इस पर परेशान न हों। यह योजना सेना ने बनाई है, योग्य सलाहकारों के साथ बनाई है।
इसका स्वागत करिए॥

Leave a Comment